SUNITA DEVI

द्रोपदी ने दुशासन से ऐसा कहा,कि आज की स्त्रियां शर्म की वजह से अपने पति से भी नही कह सकती


प्रिय दोस्तों नमस्कार! आज हम आपको उस घटना के बारे में बताने जा रहे हैं जो द्रोपदी ने दुशासन से कुछ ऐसा कहा जिसे आज के आधुनिक युग की स्त्रियां अपने पति से भी नहीं कह सकती।


यह घटना महाभारत काल की है।जब पांडव अपना सब कुछ जुए में हार गए थे और द्रौपदी को भी दांव पर लगा दिया। द्रौपदी को हार जाने के बाद दुर्योधन ने उसे राज्य सभा में लाने के लिए दुशासन को भेजा। दुशासन जब द्रौपदी के कक्ष में पहुंचा तो द्रौपदी अपने कक्ष में शयन कर रही थी। दुशासन द्रौपदी से बोला कि हस्तिनापुर के युवराज ने तुम्हें जुए में जीत लिया है और तुम्हें इसी समय राज्यसभा में मेरे साथ चलना होगा क्योंकि तुम इस समय उनकी दासी हो।


द्रोपदी ने जब इतनी बात सुनी तो उन्हें बहुत बड़ा दुख हुआ और दुशासन से कहा, तुम चलो हम इस समय ऋतु काल में हैं ऋतु स्नान के उपरांत हम राज्यसभा में उपस्थित हो जाएंगे। इतना सुनने पर भी दुशासन नहीं माना और द्रौपदी के बालों को पकड़कर घसीटता हुआ राज्यसभा में ले आया।