SUNITA DEVI

अद्भुत! इस मंदिर में लाते ही जीवित हो जाते हैं 'मृत शरीर', जानें क्या है इस रहस्यमयी मंदिर का सच 



भारत एक ऐसा देश है जहां लोग सच से ज़्यादा परंपराओं पर व अपने विश्वास पर भरोसा करते हैं। यहां जितना एक चिकित्सक की सलाह को माना जाता है उतना ही किसी नीम-हकीम द्वारा दी गई हिदायत को। ऐसे में चमत्कार होना यहां कोई बड़ी बात नहीं है। बता दें कि यहां कई ऐसे देवी-देवताओं के मंदिर व स्थान हैं जहां बहुत सी अद्भुत चीज़े होती है। अब उदाहरण के लिए आप मध्य प्रदेश में स्थित उस मंदिर को ही ली लीजिए यहां तेल नहीं बल्कि पानी के दीप जलाए जाते हैं। इनमें से कुछ बातों पर यकीन होता है कुछ पर यकीन करने को दिल चाहता है लेकिन दिमाग इजाज़त नहीं देता।

कुछ ऐसा ही होगा आपके साथ जब आप ये सुनेंगे कि भारत में एक ऐसा मंदिर है जो कि यहां मृत लोग एक बार फिर उठ खड़े होते हैं।

जी हां, सुनने में ये भले ही एक अंधविश्वासी बात लगती हैं लेकिन यह सच है।

दरअसल, हम यहां बात कर रहे हैं उतराखंड के लाखामाल में स्थित एक प्राचीन व रहस्मयी भगवान शिव के मंदिर की। यहां के लिए लोगों कि मान्यता है कि यदि यहां किसी मृत व्यक्ति को लाया जाए तो उसके शरीर में एक बार फिर से जान आ जाती है।

बता दें कि भगवान शिव का स्थान चारों ओर से पर्वतों से घिरा हुआ है और एक खुदाई के दौरान यहां से भगवान शिव की शिवलिंग प्रकट हुई थी, जिसके बाद यहां मंदिर स्थापित कर दिया गया। यमुना तट पर स्थित यह जगह 'बर्नीगड़' के नाम से जानी जाती है।

इस मंदिर की मान्यता है कि यदि यहां किसी मृत शरीर को लाया जाता है तो यहां के पुजारी उस पर पवित्र जल का छिड़काव करते हैं जिसके कारण उस मृत शरीर में एक बार के लिए फिर से जान आ जाती है।

और जैसे ही वह भगवान शिव का नाम लेकर गंगाजल ग्रहण करता है तो उसके शरीर से प्राण निकल जाते हैं और उस आत्मा को हमेशा के लिए मुक्ति मिल जाती है।

अब इस बात में कोई सच्चाई है या नहीं ये कह पाना ज़रा मुश्किल है। हां, लेकिन ये यहां के लोगों को इस बात का विश्वास है।